अश्वगंधा घृत शरीर में ओज, तेज, बल व पौरुष शक्ति वृद्धि, नसों की कमजोरी के लिए रामबाण औषिधि है

Discussion in 'Herbs & Spices | जड़ी बूटी मसाले' started by admin, Jul 18, 2018.

  1. admin

    admin Administrator Staff Member

    Joined:
    Jun 30, 2018
    Messages:
    218
    Likes Received:
    0
    Trophy Points:
    16
    अश्वगंधा घृत, असगंध और गाय के घी से निर्मित एक आयुर्वेदिक दवा है। आयुर्वेद में, असगंध को इसमें पाए जाने वाले गुणों के कारण रसायन माना गया है। यह शरीर में ओज, तेज, बल की वृद्धि करता है। इसके सेवन से नसों की कमजोरी दूर होती है। पुरुषों के लिए यह अत्यंत उपयोगी है। यह एक उत्तम वाजीकारक है और पौरुष शक्ति में वृद्धि करता है।

    अश्वगंधा घृत, का सेवन सभी प्रकार के वात रोगों में, जोड़ों के दर्द में, कमर के दर्द आदि में राहत देता है। यह नींद न आने की समस्या को भी दूर करता है। यह दिमाग को ताकत देता है। इसके सेवन से धातुएं पुष्ट होती हैं।

    अश्वगंधा घृत के घटक (Ingredients of Ashwagandha Ghrita) :

    अश्वगंधा रूट्स, गो-घृत

    अश्वगंधा घृत के लाभ/फ़ायदे (Benefits of Ashwagandha Ghrita) :

    यह अत्यंत पौष्टिक है।

    यह शक्ति, मस्तिष्क की शक्ति और प्रजनन क्षमता में सुधार करता है।

    यह उत्कृष्ट कामोद्दीपक है।

    यह बच्चों में पोषण और शक्ति को बढ़ावा देता है।

    यह स्निग्ध है और आन्तरिक रूक्षता दूर करता है।

    यह वज़न, कान्ति, और पाचन को बढ़ाता है।

    यह कब्ज़ से राहत देता है।

    यह दिमाग, नसों, मांस, आँखों, मलाशय आदि को शक्ति प्रदान करता है।

    यह धातुओं को पुष्ट करता है।

    यह पित्त विकार को दूर करता है।

    अश्वगंधा घृत के चिकित्सीय उपयोग (Uses of Ashwagandha Ghrita) :

    सामान्य कमज़ोरी

    अनिद्रा

    यौन दुर्बलता

    कम कामेच्छा, यौन कमजोरी

    स्नायु संबंधी विकार, दुर्बलता

    जोड़ों का दर्द, भ्रम, चक्कर आना

    सेवन विधि और मात्रा (Dosage of Ashwagandha Ghrita) :

    3gm से 6gm दिन में दो बार, सुबह और शाम लें।

    इसे दूध अथवा गर्म पानी के साथ लें।

    या डॉक्टर द्वारा निर्देशित रूप में लें।

    कृपया ध्यान दें, आयुर्वेदिक दवाओं की सटीक खुराक आयु, ताकत, पाचन शक्ति का रोगी, बीमारी और व्यक्तिगत दवाओं के गुणों की प्रकृति पर निर्भर करता है।

    मोटापा, हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, मधुमेह, उच्च कोलेस्ट्रॉल में एहतियात के साथ इस दवा का उपयोग करना चाहिए।
     

Share This Page