पेट के रोगों का उपचार

Discussion in 'Digestion | पाचन' started by admin, Jul 16, 2018.

  1. admin

    admin Administrator Staff Member

    Joined:
    Jun 30, 2018
    Messages:
    218
    Likes Received:
    0
    Trophy Points:
    16
    दस्त लग गए है तो,बार बार आपको टॉयलेट जाना पड़ रहा है तो इसकी सबसे अच्छी दवा है जीरा ।

    आधा चम्मच जीरा चबाके खा लो पीछे से गुनगुना पानी पी लो तो दस्त एकदम बंद हो जाते है एक ही खुराक में ।

    ☘अगर बहुत ज्यादा दस्त हो तो☘

    ☘हर दो मिनिट में आपको टॉयलेट जाना पड़ रहा है तो आधा कप कच्चा दूध ले लो बिना गरम किया हुआ और उसमे निम्बू डालके जल्दी से पी लो ।

    ☘नोट;-दूध फटने से पहले पीना है और बस एक ही खुराक लेना है बस इतने में ही खतरनाक दस्त ठीक हो जाते है।जरूरत पड़े तो 1खुराक और ले सकते है।यह प्रयोग पहले फोन पर बात करके ही प्रयोग करे।

    और एक अच्छी दवा है ये जो बेल पत्र के पेड़ पर जो फल होते है उसका गुदा चबाके खा लो पीछे से थोडा पानी पी लो ये भी दस्त ठीक कर देता है। बेल का पाउडर मिलता है बाज़ार में उसका एक चम्मच गुनगुना पानी के साथ पी लो ये भी दस्त ठीक कर देता है।

    ☘पेट अगर आपका साफ़ नही रहता
    कब्जियत रहती है।तो इसकी सबसे अच्छी दवा है अजवाईन।

    ☘इसको गुड में मिलाके चबा के खाओ
    और पीछे से गरम पानी पी लो तो पेट तुरंत साफ़ होता है ,

    ☘रात को खा के सो जाओ सुबह उठते ही पेट साफ होगा ।

    और एक अच्छी दवा है पेट साफ करने की वो है त्रिफला चूर्ण,रात को सोते समय एक चम्मच त्रिफला चूर्ण ले लो गर्म पानी के साथ पेट साफ हो जायेगा ।

    ☘पेट से जुडी दो तिन ख़राब बिमारिया है जैसे बवासीर,(पाईल्स, हेमोरोइड्स,) फिसचुला, (फिसर) .. इन सब बिमारिओ में अच्छी दवा है
    मुली का रस

    ☘एक कप मुली का रस पियो खाना खाने के बाद दोपहर को या सबेरे पर शाम को नही पीना है।इसके प्रयोग से हर तरह का बवासीर ठीक हो जाता है ,भगंदर ठीक होता है (फिसचुला, फिसर ठीक होता है ).. अनार का रस पियो तो भी ठीक हो जाता है।

    पेट के समस्त रोगों के लिए गोमुत्र व् गोतक्रासव का प्रयोग बहुत फायदेमंद होता है।

    अगर पेट सम्बधी कोई ज्यादा ही दिक्कत है तो फोन पर बात करें।

    अन्य किसी भी रोग हेतु या पंचगव्य उत्पाद मंगवाने हेतु सम्पर्क कर सकते है।
    08199921614

    ☘उद्देश्य;-मात्र जन कल्याण ,गऊ माँ का प्रचार,स्वदेशी वस्तुओं को बढ़ावा देना।

    वैद्य प्रदीप कुमार,गोसेवक
    हरि गोपैथी औषधालय से

    ।।राजीव भाई अमर रहे।।

    अच्छा लगे तो अधिक से अधिक शेयर करें।खुदतक सिमित न रखे।जनहित में जारी।
     

Share This Page